News Desk

News 11 march 2018

 

मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चैहान के द्वारा ‘‘दिल से’’ में जनता के साथ संवाद का किया गया प्रसारण, नपा द्वारा जनता के सुनने के लिये काली पुतली चैक पर किये गये प्रबंध


बालाघाटः-नगरपालिका परिषद बालाघाट द्वारा मध्यप्रदेश शासन के मुखिया मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चैहान के द्वारा जनता के साथ संवाद कार्यक्रम के रेडियो प्रसारण को जनता तक पहुंचाने हेतु 11 मार्च को स्थानीय काली पुतली चैक पर प्रबंध किया गया। ‘‘दिल से’’ कार्यक्रम के आकाशवाणी से सीधे प्रसारण का स्थानीय व्यापारी बंधुओं, चैक चैराहों पर उपस्थितजनों एवं स्थानीय जनों द्वारा श्रवण किया गया।
उक्ताशय की जानकारी देते हुये मुख्य नगरपालिका अधिकारी श्री गजानन नाफड़े ने बताया कि मध्यप्रदेश शासन के मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चैहान के द्वारा विभिन्न सामाजिक-सांस्कृतिक एवं समासायकि विषयों पर जनता के साथ सीधा संवाद स्थापित किये जाने का आकाशवाणी द्वारा 11 मार्च को शाम 6 बजे सीधा प्रसारण किया गया। नगरपालिका द्वारा इस सीधे प्रसारण के जनता के श्रवण हेतु स्थानीय काली पुतली चैक पर प्रबंध किया गया। इस अवसर पर भाजपा नेता श्री राजेश भाई चावड़ा, प्रबुद्ध नागरिक श्री नरेंद्रसिंह राजपूत, श्री वाचस्पति त्रिपाठी, श्री आर.एल. राहंगडाले, श्री राजेंद्र बोपचे, श्री यशवंत सिंह राणा, श्री विशाल श्रीवास, श्री नायाब खान, श्री अनिल, श्री सन्नी धामने सहित अनेक गणमान्य नागरिक उपस्थित रहे।
‘‘दिल से’’ कार्यक्रम के तहत मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चैहान ने अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस की बधाई देते हुये कहा कि महिलाओं के सम्मान में केवल एक दिन ही क्यों मनाया जाये वे प्रतिदिन सम्मान की हकदार हैं। उन्होंने मध्यप्रदेश की महिला खिलाड़ियों द्वारा अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर किये जा रहे प्रदर्शन के लिये बधाई देते हुये कहा कि हमारी बहनें किसी भी क्षेत्र में पीछे नहीं हैं। हाल ही में मध्यप्रदेश के रीवा जिले के फायटर प्लेन चालक अवनी चतुर्वेदी के बारे में उन्होंने कहा कि हमारी बेंटियां रक्षा, शिक्षा, चिकित्सा, यांत्रिकी, सामाजिक क्षेत्रों सहित अनेक क्षेत्र में उत्कृष्ट प्रदर्शन कर रहीं हैं। उन्होंने इंदौर के उस विद्युत कंपनी के बारे में जिक्र किया जिसमें कार्यरत सभी 25 कर्मचारी महिलायें हैं। उन्होंने बताया कि इन महिलाओं के द्वारा किस प्रकार विद्युत समस्याओं को क्षण भर सुलझाये जाते हैं। उन्होंने बताया कि ट्रंासफार्मर सुधारने से लेकर विद्युत पोलों पर चढ़कर कार्य किया जाता है। उन्होंने महिला समूहों के द्वारा निरंतर अपने आर्थिक एवं सामाजिक विकास के लिये किये जा रहे प्रयासों की प्रशंसा करते हुये कहा कि महिला स्व सहायता समूह आंदोलन का स्वरूप ले रहे हैं। उन्होंने बताया कि मध्यप्रदेश के सभी निकायों में लगभग 54 प्रतिशत महिला बहने निर्वाचित होकर अपनी जिम्मेदारियों का निर्वहन बड़ी तन्मयता से कर रही हैं। उन्होंने शासन द्वारा शिक्षा विभाग में महिलाओं हेतु 50 प्रतिशत, वन विभाग को छोड़कर पुलिस विभाग सहित सभी विभागों में 33 प्रतिशत आरक्षण देते हुये महिलाओं हेतु उन्नति के मार्ग खोले जाने के सरकार के प्रयासों की भी चर्चा की। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने ‘‘मुख्यमंत्री महिला कोष’’ की स्थापना किये जाने की बात भी कही उन्होंने बताया कि इस कोष का इस्तेमाल महिलाओं के सशक्तिकरण हेतु किया जायेगा। इसी के साथ उन्होंने 50 वर्ष से अधिक उम्र की अविवाहित महिला बहनों के लिये पेंशन दिये जाने की घोषणा भी की।
इस अवसर पर प्रदेश के मुखिया ने असंगठित क्षेत्र के मजदूरों हेतु शासन द्वारा किये गये विभिन्न प्रावधानों के बारे में विस्तृत जानकारी दी। उन्होनें बताया कि  असंगठित क्षेत्र के मजदूरों के बच्चों के लिये पहली कक्षा से पीएचडी तक की पढ़ाई की व्यवस्था मुफ्त में की जायेगी। साथ ही ऐसे बच्चों को आधुनिक शिक्षा उपलब्ध कराने के लिये ‘‘श्रमोदय विद्यालय’’ की स्थापना राज्य शासन कर रही है। प्रथम चरण में इन विद्यालयों के भवन बनने का कार्य महानगरों में प्रारंभ किया जा रहा है। उन्होंने महिला श्रमिकों हेतु गर्भावस्था के दौरान 4000 रूपये राशि पोषण आहार ग्रहण करने तथा प्रसव के बाद 12000 रूपये की राशि पुनःपोषण आहार तथा स्वास्थ्य लाभ लेने के उद्देश्य से दिये जाने की बात कही। उन्होनें 31 मई तक असंगठित क्षेत्रों के मजदूरों के वुहद स्तर पर पंजीयन किये जाने की बात कही। साथ ही ऐसे पंजीकृत बेघर मजदूरों को निशुल्क आवास उपलब्ध कराने की बात भी कही।
इस अवसर पर मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चैहान ने किसानों के लिये भावांतर योजना तथा किसान समृद्धि योजना के तहत विभिन्न प्रकार से किसानों के उत्थान हेतु सरकार द्वारा किये जा रहे प्रयासों की चर्चा भी की। उन्होंने बताया कि अब किसानो को समर्थन मूल्य से 200 रूपये प्रति क्विंटल अधिक राशि उपलब्ध कराई जायेगी। उन्होंने कहा कि किसानों को अब गेंहूं के लिये समर्थन मूल्य 1735 से 265 रूपये प्रति क्विंटल अधिक का भुगतान किया जायेगा।
इस अवसर पर श्री सिंह ने प्रदेश के विकास एवं प्रगति हेतु प्रदेश की जनता के प्रति धन्यवाद ज्ञापित करते हुये कहा कि स्वच्छता सर्वेक्षण में पिछले वर्ष भारत के 100 शहरों में प्रदेश के 22 जिले शामिल किये गये थे तथा प्रथम व द्वितिय स्थान में क्रमशः इंदौर तथा भोपाल ने अपना परचम लहराया था। उन्होंने प्रदेश की जनता से आगे भी इसी सहयोग की अपील की है।

 

Consumer Desk


Map