News Desk

News 7 Apri18

 नपा का सामूहिक विवाह सम्पन्न, 66 जोड़े बंधे परिणय सूत्र में

बालाघाटः- नगरपालिका परिषद बालाघाट द्वारा मुख्यमंत्री कन्यादान योजना के तहत सामूहिक विवाह का आयोजन 6 अप्रैल को किया गया। खर्चीली शादियों एवं दहेज जैसी कुप्रथा से बचने के उद्देश्य से मध्यप्रदेश शासन द्वारा प्रारंभ की गई इस योजना के तहत शुक्रवार को 66 जोड़ो ने विवाह के बंधन में बंधकर दांपत्य जीवन में प्रवेश किया। 
भाजपा जिला अध्यक्ष श्री रमेश रंगलानी के मुख्य आतिथ्य में सम्पन्न हुये इस सामूहिक विवाह समारोह की अध्यक्षता नगरपालिका अध्यक्ष श्री अनिल धुवारे ने की। वहीं इस अवसर पर विशेष अतिथी के रूप में भाजपा उपाध्यक्ष श्री अभय सेठिया, भाजपा नगर अध्यक्ष श्री सुरजीसिंह ठाकुर, नगरपालिका उपाध्यक्ष श्रीमती वीणा कनौजिया, भाजपा नेता श्री राजेश भाई चावड़ा, श्री दिलीप चैरसिया, श्री गुलशन भाटिया, श्री सुधीर चिले, श्री घनश्याम अग्रवाल, श्री गणेश अग्रवाल, श्री अजय सोनी, श्री यशवंत लिल्हारे, पार्षद श्री मनोज अहिरकर, श्रीमती गौरी राजेश लिल्हारे, वार्ड क्रमांक 04 की पार्षद श्रीमती भूमेश्वरी रेखलाल तिवड़े, श्रीमती सारिका रामलाल बिसेन, मनोनित पार्षद श्री अमित बैस, सहयोगी संस्था जय श्री रानी अवंती बाई सेवा समिति के सरंक्षक श्री तारेन्द्र शरणागत, समिति के अध्यक्ष श्री रूपलाल कुतराहे, विशेष अतिथी के रूप में उपस्थित रहे। वहीं मुख्य नगरपालिका अधिकारी श्री गजानन नाफड़े, उपयंत्री सुश्री रूचिता साहू, सुश्री श्रुती शुक्ला, योजना विभाग प्रभारी श्री वाचस्पति त्रिपाठी, एनयूएलएम सिटी मेनेजर श्री सत्यकाम मिश्रा, श्री देवलाल तिवड़े सहित नगरपालिका के समस्त अधिकारी कर्मचारीगण उपस्थित रहे। 
सामूहिक विवाह के दौरान उपस्थित वर-वधुओं एवं परिजनों को संबोधित करते हुये नगर पालिका अध्यक्ष श्री अनिल धुवारे ने बताया कि सामाजिक समरसता एवं आपसी भाई चारे को स्थापित करने एवं समाज में आर्थिक विषमताओं को दूर करने के उद्देश्य से मध्यप्रदेश शासन द्वारा प्रारंभ किये गये मुख्यमंत्री कन्यादान योजना के तहत गत कुछ वर्षों में जहां एक ओर लाखों बेटियों का विवाह पूरे सम्मान और विधि विधान से पूरे हुये हैं। वहीं समाज के अंदर अब आर्थिक विषमताओं को दूर करने हेतु जागरूकता भी आ रही है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री कन्यादान योजना न केवल आर्थिक रूप से कमजोर माता-पिता के लिये वरदान साबित हुई है। बल्कि समाज में बेटियों को बोझ समझने की प्रवृत्ति पर अंकुश लगाने में हमारी सरकार बहुत हद तक सफल हो पाई है। उन्होंने बताया कि इस अभिनव योजना के तहत जहां एक गरीब परिवार की बेटीयों का पूर्ण सम्मान के साथ विवाह सम्पन्न होता है वहीं शासन द्वारा बेटी की गृहस्थी प्रारंभ करने हेतु 5 हजार रूपये का गृहस्थी का सामान तथा 20 हजार रूपये आर्थिक सहायता के रूप में कन्या के बैंक खाते में जमा किये जाते हैं। साथ नगरपालिका परिषद बालाघाट द्वारा बेटियों को सोने का मंगलसूत्र, पायल तथा बिछिया भेंट स्वरूप प्रदान किया जाता है। उन्होंने कहा कि शासन की इस दूरगामी सोच के चलते पिछले दस सालों में लाखों बेटियों का विवाह सम्पन्न किया जाकर आज वे एक खुशहाल जीवन व्यतीत कर रहे हैं।
वहीं इस अवसर पर भाजपा जिला अध्यक्ष श्री रमेश रंगलानी ने कहा कि मुख्यमंत्री कन्यादान योजना हमारी सरकार द्वारा पंडित दिनदयाल जी के एकात्म मानववाद की अवधारणा से प्रेरित होकर प्रारंभ की गई योजना है। हमारे समाज में बेटी के पैदा होने के साथ ही उसके विवाह की चिंता की जो लकीरें माता-पिता के माथे पर आती थी उस चिंता को दूर करने की सोच के साथ यह योजना प्रारंभ की गई। साथ ही इस योजना के प्रारंभ किये जाने के पीछे दहेज तथा आर्थिक विषमता जैसी सामाजिक कुरीती को दूर करने की सोच भी थी। उन्होंने कहा कि जिन लोगों के पास अपनी बेटियों के विवाह के लिये उचित धन की व्यवस्था नहीं होती थी या तो उनकी बेटियों का विवाह बहुत मुश्किल से होता था या फिर धन की कमी के चलते समाज के सामने उन्हें अपमान भी सहना पड़ता था। किन्तु यह एक ऐसी अभिनव योजना है जिसमें न केवल अनेक धर्म और जातियों के लोग एक साथ अपनी बेटियों के विवाह के लिये एकत्रित होते हैं साथ ही एक अनोखा संबंध ऐसे आयोजनों के माध्यम से हमारे बीच बनता है। 
शुक्रवार को स्थानीय वार्ड क्रमांक 04 देवटोला के रानी अंवती बाई चैक पर आयोजित सामूहिक विवाह समारोह में एक ही छत के नीचे अनेक धर्म एवं समाज के वर-वधु दांपत्य बंधन में बंधे ये विवाह पूर्ण रीति-रिवाज तथा मंत्रोच्चारण एवं विधि-विधान से सम्पन्न कराये गये। सामूहिक विवाह के दौरान अनेक धर्म के हितग्राहियों द्वारा आवेदन किया गया था जिसमें परिस्थिति अनुसार उनके धर्म-गुरूओं को आमंत्रित कर विवाह समारोह पूर्ण रिती रिवाज के साथ सम्पन्न कराया गया। वहीं इस अवसर पर कुल 66 जोड़ों में से 51 जोड़ों का विवाह हिन्दू रीति रिवाज तथा 15 जोड़ों का विवाह बौद्ध धर्म के अनुसार कराया गया इस अवसर पर पंडित अनूप कुमार दुबे तथा श्री संघरत्न डोंगरे द्वारा विवाह के मंत्रों का उच्चारण कर लग्न सम्पन्न कराया गया। इससे पूर्व गुरूकुल स्कूल देवटोला से निकलकर बारात स्थानीय रानी अंवती बाई चैक देवटोला पहुंची जहां उपस्थित अतिथियों तथा कन्या के परिजनों द्वारा विधिवत बारात का स्वागत करने के पश्चात वैवाहिक रस्में प्रारंभ की गई। कार्यक्रम के अंत में उपस्थित अतिथियों द्वारा वर-वधु को गृहस्थी का सामान तथा नव जीवन में प्रवेश के प्रतीक के रूप में एक-एक जोड़ा पौधा भेंटकर सुखी वैवाहिक जीवन की शुभकामनायें दी गई।
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिषन के तहत महिला स्व सहायता समूहों ने लिया स्वच्छता का संकल्प
बालाघाटः- नगरपालिका परिषद बालाघाट अंतर्गत राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिषन के तहत गठित महिला स्व सहायता समूहों की बहनों द्वारा स्वच्छत भारत अभियान में महिलाओं की भूमिका विषय पर एक विषेष बैठक का आयोजन किया गया। इस अवसर पर सामुदायिक स्वच्छता, कचरे के निष्पादन, घरेलू गीले कचरे से घर पर खाद बनाने, सूखे कचरे को अलग-अलग संग्रहित करने, समूह की आर्थिक रूप से कमजोर महिला बहन को शौचालय निर्माण हेतु आर्थिक सहायता उपलब्ध कराने तथा वृक्षारोपण किये जाने जैसे अनेक विषयों पर चर्चा की गई।
ज्ञात हो कि भारत सरकार के आवासन और शहरी कार्य मंत्रालय द्वारा जारी आदेषों के तहत माह मार्च-अप्रैल में स्वच्छता संबंधी ‘‘थिमेटिक अभियान’’ के अंतर्गत अनेक गतिविधियां संचालित किये जाने के आदेष किये गये हैं। जिसके तहत 1 से 31 मार्च के बीच स्वच्छ भारत अभियान के तहत महिलाओं की भूमिका सुनिष्चित किये जाने तथा अनेक गतिविधियां महिलाओं के माध्यम से संचालित किया जाना है। इन गतिविधियों के माध्यम से शहरी क्षेत्र में महिलाओं में स्वच्छता व्यवहार, सुरक्षित सेनेटरी नेपकीन्स के इस्तेमाल करने, स्वयं सहायता समूहों की बहनों के द्वारा स्वच्छता अभियान में सकारात्मक भूमिका एवं जागरूकता फैलाने हेतु किये जाने वाले प्रयासों को चिन्हित किया जायेगा। इस अवसर पर प्रगति, नारी शक्ति, श्रद्धा सबुरी, एकता, गरिमा, आकाष, प्रेम शक्ति सहित अनेक स्व सहायता समूहों की बहने उपस्थित रही।
 

Consumer Desk


Map