News Desk

News 06 May 2018

नपा का सामूहिक विवाह सम्पन्न, 35 जोड़े बंधे परिणय सूत्र में


बालाघाटः- नगरपालिका परिषद बालाघाट द्वारा मुख्यमंत्री कन्यादान योजना के तहत सामूहिक विवाह का आयोजन 6 मई को किया गया। नगरपालिका परिषद बालाघाट एवं विश्वशांति जनकल्याण संस्था बालाघाट के संयुक्त तत्वाधान में आयोजित सामूहिक विवाह में खर्चीली शादियों एवं दहेज जैसी कुप्रथा से बचने के उद्देश्य से मध्यप्रदेश शासन द्वारा प्रारंभ की गई इस योजना के तहत रविवार को 35 जोड़ो ने विवाह के बंधन में बंधकर दांपत्य जीवन में प्रवेश किया।
मध्यप्रदेश शासन के किसान कल्याण एवं कृषि विकास मंत्री श्री गौरीशंकर बिसेन के मुख्य आतिथ्य में सम्पन्न हुये इस सामूहिक विवाह समारोह की अध्यक्षता संस्था के संरक्षक एवं समाजसेवी श्री राजेश पाठक ने की। वहीं इस अवसर पर मध्यप्रदेशप अल्पसंख्यक आयोग के सदस्य श्री तुकड्यादस जी वैद्य, श्री आर. के. गजभिये, विश्वशांति जनकल्याण संस्था की अध्यक्ष श्रीमती मंजू बौद्ध, भाजपा नेता श्री संजय अग्निहोत्री, श्री सुरेंद्र खोब्रागढ़े, समाजसेवी श्री आर.एल. राहंगडाले, श्री एच.आर. चैरे, श्री एल.एल. पाटिल, श्री संघरत्न डोंगरे सहित श्री शुक्ला जी विशेष अतिथी के रूप में उपस्थित रहे। वहीं योजना विभाग प्रभारी श्री वाचस्पति त्रिपाठी, समग्र सुरक्षा विस्तार अधिकारी सुश्री दिव्या गनवीर, श्री ओमप्रकाश सेन, श्री साधुराम चमकेल, श्री नायाब खान, श्री दिपेश बनवाले, श्रीमती आरधना मिश्रा, श्रीमती भारती नायडू, श्रीमती अनिता लिल्हारे, श्रीमती सुलोचना सेंद्रे, श्रीमती सरिता लिल्हारे सहित नगरपालिका के समस्त अधिकारी कर्मचारीगण उपस्थित रहे।
सर्वप्रथम उपस्थित अतिथियों द्वारा तथागत भगवान बुद्ध एवं बोधीसत्व डाॅ.भीमराव अम्बेडर के छायाचित्र पर माल्यार्पण कर दीप प्रज्जवलित किया गया। तत्पश्चात उपस्थित जनों द्वारा उपस्थित अतिथियों का स्वागत किया गया।
सामूहिक विवाह के दौरान उपस्थित वर-वधुओं एवं परिजनों को संबोधित करते हुये कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे श्री राजेश पाठक ने बताया कि मुख्यमंत्री कन्यादान योजना न केवल आर्थिक रूप से कमजोर माता-पिता के लिये वरदान साबित हुई है। बल्कि समाज में बेटियों को बोझ समझने की प्रवृत्ति पर अंकुश लगाने में हमारी सरकार बहुत हद तक सफल हो पाई है। उन्होंने बताया कि इस अभिनव योजना के तहत जहां एक गरीब परिवार की बेटीयों का पूर्ण सम्मान के साथ विवाह सम्पन्न होता है वहीं शासन द्वारा बेटी की गृहस्थी प्रारंभ करने हेतु 5 हजार रूपये का गृहस्थी का सामान तथा 20 हजार रूपये आर्थिक सहायता के रूप में कन्या के बैंक खाते में जमा किये जाते हैं। साथ ही वर तथा वधु को एक-एक जोड़ी कपड़े भी दिये जाते हैं। साथ ही आयोजक संस्था द्वारा आने वाले अतिथियों के लिए उत्तम भोजन की भी व्यवस्था की जाती हैं। उन्होंने कहा कि इन आयोजनों के माध्यम से हर उस जरूरत तथा व्यवस्था का पूरा ध्यान रखने का प्रयास सरकार द्वारा की जाती है। जो एक सक्षम माता पिता अपनी बेटी के विवाह के लिए करते हैं ।
वहीं इस अवसर पर मुख्य अतिथी मंत्री श्री गौरीशंकर बिसेन ने कहा कि सामाजिक समरसता एवं आपसी भाई चारे को स्थापित करने एवं समाज में आर्थिक विषमताओं को दूर करने के उद्देश्य से मध्यप्रदेश शासन द्वारा प्रारंभ किये गये मुख्यमंत्री कन्यादान योजना के तहत गत वर्षों में अनेक परिवारों द्वारा अपनी बेटियों का विवाह सम्पन्न कराया गया है। यह योजना हमारे समाज में बेटी के पैदा होने के साथ ही उसके परिजनों के मन-मस्तिष्क में उपजे विवाह की चिंता को समाप्त करने में बहुत हद तक कारगर सिद्ध हुई है।  साथ ही इस योजना के प्रारंभ किये जाने के पीछे दहेज तथा आर्थिक विषमता जैसी सामाजिक कुरीती को दूर करने की सोच भी थी। उन्होंने कहा कि वे लोग जो बाकी की सारी रस्में अपने घर पर करके इस विवाह समारोह में सम्मिलित होना चाहते हैं उनका भी स्वागत है किन्तु ध्यान रहे यह योजना आर्थिक आडबंरो को दूर करने एवं समाज में शादी ब्याह के नाम पर हो रहे खर्चीले दिखावे को दूर करने के लिए बनाई गई योजना है। जिससे उन माता-पिता की बेटियों का भी पूर्ण सम्मान से विवाह सम्पन्न हो सके जिनके पास धन की पर्याप्त व्यवस्था नहीं हो पाती। उन्होंने इस अवसर पर नगर पालिका द्वारा अपने स्तर पर पायल, बिछिया तथा मंगलसूत्र वधु को दिये जाने की प्रशंसा भी की।
ज्ञात हो कि रविवार को स्थानीय उत्कृष्ट विद्यालय के मैदान में आयोजित इस विवाह समारोह में विवाह का कार्यक्रम सम्पूर्ण रीति-रिवाज तथा मंत्रोच्चारण एवं विधि-विधान से सम्पन्न कराये गये। सामूहिक विवाह के दौरान अनेक धर्म के हितग्राहियों द्वारा आवेदन किया गया था जिसमें परिस्थिति अनुसार उनके धर्म-गुरूओं को आमंत्रित कर विवाह समारोह पूर्ण रिती रिवाज के साथ सम्पन्न कराया गया। वहीं इस अवसर पर हिन्दू जोड़ो का विवाह हिन्दू रीति रिवाज से पंडित श्री शुक्ला तथा बौद्ध धर्मावलम्बियों जोड़ो का विवाह बौद्ध धर्म के रिती रिवाजों के अनुसार श्री संघरत्न डोंगरे द्वारा विवाह के मंत्रों का उच्चारण कर लग्न सम्पन्न कराया गया।
 

Consumer Desk


Map